RRGwrites

On life…and learning

Posts Tagged ‘Life

This New Year, Let’s Find God Within Us All…

with one comment

imageFifteen long years ago, around the same year-end time, I had read this heart-touching story. I was deeply moved; and as a habit, noted it down in my diary. As a young lad, this story left a deep impression upon me at the time and since then, I start my each new year reminiscing it.

This year, as all of us get ready to usher the new year in, I am sharing this piece with you: 

One cold evening during the holiday season, a little boy about six or seven was standing out in front of a store window. The little child had no shoes and his clothes were mere rags. A young woman passing by saw the little boy and could read the longing in his pale blue eyes. She took the child by the hand and led him into the store. There she bought him some new shoes and a complete suit of warm clothing.

They came back outside into the street and the woman said to the child, “Now, you can go and have a very happy holiday.”

The little boy looked up at her and asked, “Are you God, Ma’am?”

She smiled at him and replied, “No, son. I am just one of His children.”

The little boy then said, “I knew you had to be some relation.”

Touching, isn’t it? This story helped me stay more human year on year, welcoming the new year on a nicer note… I wish you all a very happy new year 2017; hope that you find your reasons and means to show you are the chosen one by the Lord Almighty to play His children, same way as the young lady in the story.

God bless you all…

Written by RRGwrites

December 30, 2016 at 7:45 PM

That Tree Still Shakes Delhi…

leave a comment »

Circa 1984.

“Some riots took place in the country following the murder of Indiraji. We know the people were very angry and for a few days it seemed that India had been shaken. But, when a might tree falls, it is only natural that the earth around it does shake a little.”

 – Rajeev Gandhi; 19 November 1984, Prime Minister designate

Circa 2005.

“I have no hesitation in apologizing not only to the Sikh community but the whole Indian nation because what took place is the negotiation of the concept of nationhood, as enshrined in our Constitution. On behalf of our government, on behalf of the entire people of this country, I bow my head in shame that such a thing took place.”

– Dr. Manmohan Singh; 11 August 2005, the then Prime Minister, served India till year 2014

It is 2016 now.

That same tree continues to haunt the streets of Delhi and no apology from anyone whatsoever has helped the cause of justice as yet.

As the seekers of justice gather today and lament the delay in justice in the matter of over 3000 citizens of a minority community massacred over three days in 1984 in broad daylight on the roads of Delhi, I am deeply anguished and saddened to wake up to a morning 32 years later from the day this ghastly event manifested in the most barefaced manner on the streets of Delhi.

Well, didn’t someone say justice delayed is justice denied? May be, the phrase wasn’t meant for the commoners in India…

Authors Manoj Mitta and HS Phoolka, the tireless warriors for justice in the matter and conceivably the most knowledgeable people on this case, wrote in their well-researched book, ‘When A Tree Shook Delhi: The 1984 Carnage and its Aftermath’:

“Whichever way you look at India, whether as the world’s largest democracy, or as one of the fastest growing economies in the world, it is hard to imagine that any genocide could have taken place a few years ago right in its capital.”

Well, it did happen. And it is no solace that the masterminds and perpetrators of this rather well organized crime roam so freely, to date.

How I wish the apology of our last Prime Minister translated into actions. To a commoner like me, that would have been far more reassuring.

Not to be, as yet. The fight is on…

___________________________________________

Disclaimer: The views expressed above are author’s own and not of the organisation he is associated with.

शहीदों के विचार…

leave a comment »

bhagat_singh_1929_140x190आज शहीद सरदार भगत सिंह का 110वां जन्मदिवस है – एक तरीक़े से, आज शहीद उत्सव है।

मैं आपसे शहीद भगत सिंह का उनके अंतिम समय का एक कथन
बाँटना चाहता हूँ; ना जाने क्यों आज मुझे यह बहुत याद आ रहा है –

“ऊषा काल के दीपक की लौ की भांति बुझा चाहता हूँ। इससे क्या हानि है जो ये मुट्ठी भर राख विनष्ट की जाती है। मेरे विचार विद्युत की भांति आलोकित होते रहेंगे…”

कितना गंभीर और निश्छल, परन्तु सत्य वचन है; और इतिहास इस बात का साक्षी है कि उनके विचार आज भी हमें आलोकित करते है…

आईये, आज सोचें कि क्या हमारे आचरण में, विचारों में इतना तेज है कि वो हमारे जाने के बाद भी याद किये जायेंगे और लोग उनका अनुसरण करेंगे?

Written by RRGwrites

September 27, 2016 at 11:01 AM

विचारों की सान पर…

leave a comment »

bhagat-singh-sukhdev-rajguru

आज ‘असली शहीद दिवस’ है – बस हम जानते नहीं हैं।

शहीद शिवराम राजगुरु, शहीद सुखदेव थापर और शहीद सरदार भगत सिंह 23 मार्च 1931 को अपना बलिदान दे कर जा चुके हैं। देश स्वतंत्र भी है, शायद। कम से कम किसी दूसरे देश का गुलाम नहीं है, बाकी तरह की गुलामियत के बारे में नहीं कहता।

भगत सिंह ने जीवन के कुल 23 वर्ष ही पूरे किये। जितना ज्यादा मैं जानता-पढ़ता हूँ उनके बारे में, मेरा आश्चर्य बढ़ता जाता है कि इस छोटी सी उम्र में उनके सोचने-समझने की क्षमता कितनी जागृत और परिपक्व थी। क्या आप जानते हैं उनके विचार और लड़ाई सिर्फ ब्रिटिश साम्राज्य के खिलाफ ही नहीं थी; सामाजिक पिछड़ेपन, साम्प्रदायिकता, अकर्मण्यता और विचारों के क्षेत्र में अन्धविश्वास के विरुद्ध भी उनकी लड़ाई थी? शायद आज का युवक ये जानता ही नहीं। और ऐसा क्यों न हो, जब हमारी अपनी ‘स्वतंत्र’ सरकारों ने ही हमारे क्रांतिकारियों के विचारों को, उनकी याद को, महज एक ‘धन्यवाद्’ का रूप दे रखा है जो आज के दिन की तरह समाचार-पत्रों में एक-चौथाई पेज में छपता है, बस।

भगत सिंह के बारे में बात करते हुए एक जगह ‘शहीद भगत सिंह शोध समिति’ के डॉ. जगमोहन सिंह और डॉ. चमन लाल ने लिखा है (पुस्तक: ‘भगतसिंह और उनके साथियों के दस्तावेज’) –

“…आज सबसे बड़ी ज़रूरत इस बात की है कि शहीद भगत सिंह के मूल वैचारिक तत्त्व को जाना व समझा जाये। यह पहचानने की ज़रूरत है कि वे कौन से सिद्धान्त थे, कौन से तरीके थे और कौन से गुण थे, जिससे भगत सिंह आत्म-बलिदान करनेवालों में सबसे ऊँचे स्थान के अधिकारी बने? वे कौन सी परिस्थितियाँ थीं, जिन्होंने भगत सिंह को भारतीय चेतना का ऐसा अन्श बनाया कि एक ओर तमिलनाडु में उन पर कविताएँ लिखी जाती हैं तो दूसरी ओर भोजपुर में होली के गीत में ‘भगत सिंह की याद में अँचरिया भीग जाती है।’ लेकिन ऐतिहासिक दुखान्त यह भी घटता है कि जब वर्तमान की समस्याओं का सामना करने के लिए हम अपने अतीत से उदाहरण खोजते हैं तो अतीत के सारतत्व को नहीं, उसके रूप को अपनाने की कोशिश करते हैं, जैसा कि भगत सिंह व उनके साथियों के साथ सरकारी और कुछ अन्य प्रचार-माध्यमों ने किया है।”

लेखकगण आगे लिखते हैं,

“शहीद भगत सिंह न सिर्फ वीरता, साहस, देशभक्ति, दृढ़ता और आत्मा-बलिदान के गुणों में सर्वोत्तम उदाहरण हैं, जैसा कि आज तक इस देश के लोगो को बताया-समझाया गया है, वरन वे अपने लक्ष्य के प्रति स्पष्टता, वैज्ञानिक-ऐतिहासिक दृष्टिकोण से सामाजिक समस्याओं के विश्लेषण की क्षमता वाले अद्भुत बौद्धिक क्रांतिकारी व्यक्तित्व के प्रतिरूप भी थे, जिसे जाने या अनजाने आज तक लोगो से छिपाया गया है।”

मैं समझता हूँ कि यह सच बात है कि हमारी सरकारों ने भगत सिंह और अन्य साथी क्रांतिकारियों के विचारों की पूर्णता को जन-मानस के सामने लाने का कार्य नहीं किया है। पर क्या ये भी सच नहीं है कि देश के नागरिकों ने, युवा-समाज ने भी अपनी ओर से ईमानदार कोशिश ही नहीं की है जानने की? क्या आज भी हम भगत सिंह का सिर्फ क्रांतिकारी स्वरुप नहीं जानते? और क्या हमने कोशिश की है कि हम भगत सिंह के बौद्धिक और वैचारिक स्वरुप को जान पाएं और उनसे सीखें?

कई बार सुनता हूँ कि किस प्रकार से देश में नेतृत्व का अभाव है, ज्ञान का तो और भी ज्यादा। शिकायत है कि नेता नहीं मिलते। और सिर्फ राजनीति की बात नहीं हो रही यहाँ पे, कार्य-क्षेत्र में तो नेतृत्व-क्षमता के अभाव का रोना लगभग रोज़ ही सुनता हूँ। आप भी शायद मानेंगे। पर फिर पूछने की इच्छा होती है कि क्या हम वास्तव में सीख रहे हैं पुराने नेतृत्व से, विचारों से? वो नेतृत्व और विचार जो सिर्फ समय के हिसाब के पुराने होंगे, पर परिपेक्ष्य, उपयोगिता और प्रासंगिकता के हिसाब से बेहद कारगर हैं आज…

“स्वतंत्रता का पौधा शहीदों के रक्त से फलता है”, भगत सिंह ने लिखा था। शहीद राजगुरु, शहीद सुखदेव और शहीद सरदार भगत सिंह के विचारों व कर्मों से रोपित और रक्त से संचित आज ये पौधा भले ही पेड़ बन गया हो, मीठे फ़लों से बहुत दूर है।

आओ दोस्तों, आज शहीदी दिवस पर ये प्रण लें कि जानना शुरू करेंगे उन सिद्धांतो को, उन विचारों को, जिन्होंने एक 23-वर्षीय युवक भगत को ‘शहीद सरदार भगत सिंह’ बनाया। शायद ये हमारे भी कुछ काम आ जायें…

Written by RRGwrites

March 23, 2016 at 1:34 PM

Love, Hope & Care…

with 3 comments

RRGwrites

Those of you who know me well, know there is a gardener inside me. Today was one of those days, when the gardener in me felt truly, abundantly happy…

What you see as an image of blooming flowers above, was one of the saplings that I had planted early winters this year. I hoped for a lush bloom, a garden full of flowers, covering the otherwise dusty environs of the Millennium City – Gurgaon – that I live in.

Not to be, not so easy.

One fine morning, I woke up to find most of these saplings all crushed and trampled down!  And from the looks of it, this havoc was caused by a stray dog, who must have dug deep into the rows of my plants in his gay mischief….

I was crestfallen…

In one corner, I saw nearly dead a small sapling. I was so dejected that I didn’t give it a second thought. And with a heavy heart, I got ready and drove off to office.

All through my drive, the dying sapling kept coming back in front of my eyes… Around lunch time, I started to feel quite uneasy… and then, I decided to drive back home. Once home, I dug this sapling out, which looked even more worse than morning and planted it in a mud-glass, most carefully, and said a silent prayer…

3 months today from that fateful day, with a hope against hope and a lot many prayers and care later, I saw this sapling blooming into a bunch of flowers! The gardener in me felt the same happiness that I get when I see my son growing every day… The hope, the love, the prayers and the care – they all paid off.

Happy to share with you…

As they said, looks like faith is still known to move mountains…

Written by RRGwrites

March 16, 2016 at 12:28 AM

Motorcycle Diaries… Road to Ladakh… The Trip Is Ready!

with one comment

Road to Leh Blog

Trip is ready! June-July 2016… anyone joining 🙂 ?

My Guiding Words for 2016

with 2 comments

2016Over the period of years, at the outset of each new year, I pen down my intentions – words & thoughts that guide me throughout the year. At times, these are the pieces that I learnt the hard way during the preceding year, or somethings that I read or heard and which stayed with me. I note them down, and they become my reminders for the year-round.

For the year 2016, here they are:

  1. Will cut down on time taken during the decision-making process. Will watch and act against time wasted in unnecessary meetings and reviews.
  2. Won’t attend all arguments I get invited to. Simply, won’t. Will stay away from people bringing negative energy. Two-feet distance, at least.
  3. Will authentically look out for at least one good deed every day – done by anyone around me. Will thank the person before the day ends. Delayed and/or unexpressed gratitude isn’t useful to anyone.
  4. Will call a spade by no other name. Will stay polite when I do so.
  5. Will continue to focus and work on the strengths of my team. Will keep pushing them to excel. Give more credit and take more blame as a leader.
  6. Will be a better spouse. Find lesser faults with and show more affection and respect to wify Neha.
  7. Will teach my son Rajvir how to swim.
  8. Will give higher attention to my health; and not merely via lip-service. Will go on vacations; will encourage my team to do so too. Will choose happiness and choose to spread it.
  9. As Jeff Weiner recommended, will dream big, get shit done and have fun while I do so.

The intention behind writing my guiding principles and goals is simple – it inspires me everyday to achieve them, stay true to them. That’s what I will try and do with above nine intentions for 2016.

What are yours?

______________________________________________________________________________________________

PS: Here are the links to my guiding principles earlier years. You you liked reading the above post, chances are, you’d like these too:

Written by RRGwrites

January 3, 2016 at 3:17 AM

स्याही का रंग…

leave a comment »

Ink RRGwritesआजकल मैं बड़ा विचलित हूँ। गाय को ‘माँ’ कहने वाले, एक-दूसरे की माँओं को गाली दे रहे हैं। दूसरी तरफ, मज़हबी हाशिये की तुच्छ राजनीति करने वाले कुछ अहमक़ सियासतदां जानते-बूझते इस जम्हूरियत में छेद करके UN जाना चाह रहे हैं और यह जता रहे हैं कि कैसे इक ख़ास किस्म के गोश्त के टुकड़े की भूख़ पूरे देश के भूखे मरते आवाम से बड़ी है। कहीं तो स्याही का रंग इतना वीभत्स हो चला है कि वो लिखने के लिए नहीं, मुँह काले करने के काम आ रही है, ऐसे कि भगवे रंग के हिमायती भी भगवा छोड़ इस काले रंग के मुरीद हो चले हैं। कौन भारतीय हिंदुस्तान में रहेगा और कौन पाकिस्तान जाये, ये बताने वाले कितने सारे हो गए हैं। दूसरी ओर, स्याही के सिकंदर लिख कर विरोध ना जता कर, सरकारी और गैर-सरकारी पुरस्कार वापस कर के जता रहे हैं। जानवरों की ऱक्षा करने के लिए टीवी चैनलों पर इतनी चिंता बिखरी हुयी है कि दिल्ली महानगर में होते मासूमों के बढ़ते दुराचारों की भयावह चीखें नक्कारखाने में बजती तूतियों के समान प्रतीत होती दीखती हैं।

इतनी नकारात्मकता फैली है… अजब हड़बोंग मचा है चारो ओर.… संस्कृति और धर्म के नाम पर। गाय के नाम पर, सारे-के-सारे बछिया के ताऊ, यानी बैल, हुए जा रहे हैं। सुर्खियां और वोट बटोरने के लिए धर्म का बाजार गर्म है।

हिंदी भाषा के महान लेखक, रामधारी सिंह दिनकर ने एक जगह कहा है:

“संस्कृति ज़िन्दगी का एक तरीका है और ये तरीका सदियों से जमा होकर उस समाज में छाया रहता है, जिसमे हम जन्म लेते हैं।”

मैं शहरे-अवध लखनऊ की गंगा-जमुनी संस्कृति का बाशिंदा हूँ; बचपन से मेरे मित्र सभी धर्मों के थे, आज भी हैं। मिशनरी स्कूल में हिन्दू और मुस्लिम दोनों पढ़ते थे, हम अपने सिख दोस्तों के साथ गुरूद्वारे जाते और जब भी मौका मिले, बंगाली रसगुल्ले नाक डुबो-डुबो कर खाते। जब कभी हम आपसे में लड़ते-भिड़ते, वो मजहबी रंग न लेकर दो छोरो की आपसी लड़ाई मानी जाती थी। होली और ईद, दोनों पर खुश होना हमने सीखा। मंगलवार को हिन्दू दोस्त गोश्त नहीं खाते, इस वजह से हमारे मुस्लिम दोस्त-यार ख़ुशी और पूरे मन से शाकाहारी खाना खा लेते थे, ना कि मज़हबी आज़ादी के नाम पर ‘बीफ पार्टियां’ आयोजित करते। दीवाली पर खील-बताशों के माफ़िक ईद पर सिवईंयां मैं आज भी खोजता-लाता हूँ। मेरे लिए ये ज़िन्दगी जीने का तरीका, मेरी संस्कृति है। हमारे मरहूम वालिद साहब कहा करते थे, “जो धारण करने योग्य है, वही धर्म है।” ये सीख बहुत बचपन से मेरे साथ रही। तब तो, कम-स-कम मेरे बचपन के दिनों में, हिन्दू अगले और मुस्लिम पिछड़े या मुस्लिम आगे और हिन्दू पीछे – ऐसा नहीं होता देखा मैंने।

इस मज़हबी गैर-रवादारी और राजनीतिक असहिषुणता ने सारे देश में एक बेचैन कर देने वाली मानसिकता पैदा कर दी हैं। और वो काफी हद तक हमें बाँटने में सफल होती भी दीखती है!

पर क्यों?

Written by RRGwrites

October 19, 2015 at 7:01 PM

What If We Fail…

with 2 comments

India Wold Cup Team

India meets Australia tomorrow – the semi-final of ICC World Cup 2015. The game we all have been waiting for… a game in which billions of Indians all over the world don’t want Dhoni and men to fail… a game, where victory is being treated like a need, where failure isn’t an option.

I am feeling quite restless. What if we fail tomorrow? What if the journey of the Indian team’s world cup ends tomorrow? The same team, which fared extremely poorly down under in last 4 months and which almost has risen like a Phoenix in last 7 matches of this tournament. What if they lose now…

In this hour of my restlessness, I find solace and hope in the words of a very old advertisement I had read. It was by Bajaj Auto, and if I recall right, was a campaign for the motorcycle brand ‘Bajaj Caliber.’ I read it long, long ago, loved it and noted it in my diary. It has, since then, helped me sail through some of my own tough moments;

What are we going to do when we fail?

When we find the wrong kind of tears,

running down our cheeks.

When we look at our Gods

and see mortals instead.

When the sports page

reads like an obituary.

When we know all others are

celebrating our grief.

What are we going to do when we fail?

We’re going to look up from our toes.

And into the sun. Without flinching.

We’re going to walk out there alone.

Again.

Grit our teeth.

Take guard.

And wait for the next ball.

Like a true fan, I too would love India to win tomorrow. But more than that, I would love the game of cricket to win, the game to stay belonged to the gentlemen, where we are allowed to fail at time… and not crucified for it.

%d bloggers like this: