RRGwrites

On life…and learning

Posts Tagged ‘Key to success

My Deputy Is Doing Well. And I Am NOT Threatened!

with 2 comments

BossExamples of quality leadership in our daily lives are almost a rarity. It is even uncommon to see a supervisor allowing & appreciating the growth of his second-in-command. In fact, the world knows so-called-leaders who rather feel unduly threatened if the deputy performs brilliantly and is ready to take on higher roles!

So, today it felt food quite good to read what Mahendra Singh Dhoni had to say about his deputy – Virat Kohli. The most successful-ever Indian Cricket team captain was not only all praises for the vice-captain’s coming of age and successful captaincy stint during the series at Zimbabwe, he was more than pleased to see the youngster easing into the leadership role.

Appreciating the evolution of Virat from a consistently performing star batsman into a mature player and leader, Dhoni said, “The best thing about him is that he is very expressive, and that helps a captain… He now has all the ingredients to lead a side…”

Now, that’s a true leader talking. Mind you, he isn’t only praising; he is rather making a strong case for Virat as a captain. And yet, one can note that Dhoni is least bit insecure to do so, while he knows there can be only one captain of Team India – and right now, he himself occupies that role! Some self-belief, team-spirit and personal integrity, this is…

Not only such examples of leadership magnify high self-assurance and self-confidence, it also amply demonstrates the leader’s commitment towards nurturing his subordinates, timely succession planning and talent development, in a concerted and committed manner. Much unlike than the unauthentic gibberish that does the rounds during annual talent management exercises in the corporate world.

My first boss taught me a valuable lesson – the key to success for any deputy is to do such good work that his boss gets promoted and recommends him for taking his spot!

And here is what I derived from my own experiences of leading teams – another imperative lesson – the key for any boss to do well and become successful is to grow his subordinates; nurturing them into leaders, sometimes even better than him. And certainly, not feeling threatened when they perform exceedingly well!

While the world is replete with poor managers (I refuse to address them as leaders), who start feeling vulnerable when their subordinates outperform them and get ready to take on their mantles, I am also sure there are many like Dhoni around.

That’s the light of hope in the arena of leadership, the biggest skill required in today’s times.

Have you also experienced supervisors who were threatened to see their subordinates out-perform them? Or, you did experience a Dhoni like leader too? Let me know what you think.

Advertisements

सफलता का मंत्र

with one comment

N Shivakumar IIM Newspaper Vendorअभी कुछ देर पहले NDTV पर ‘हम लोग’ कार्यक्रम देखा। कुछ ऐसा अनुभव हुआ जो आपसे बाँटना चाहता हूँ। अनुभवी पत्रकार रवीश कुमार ने मंच पर तीन मेधावी छात्रों – निरीश राजपूत, कोमल गणात्रा और एन. शिवा कुमार – को आमंत्रित किया था जिन्होंने समाज में निचले तबके से होने के बावज़ूद और अनेक मुश्किलों को पार करते हुए, अपनी मेहनत और लगन से, अपने मजबूर इरादे से इस साल भारतीय प्रशासनिक सेवा (IAS) और भारतीय प्रबंधन संस्थान (IIM) में स्थान अर्जित किये हैं।

इस एक घंटे के कार्यक्रम में कई अच्छी बातें सुनी और देखी; कैसे एक छोटे से कस्बे का एक गरीब लड़का दोस्तों की मदद से अपनी पढ़ाई करता है और IAS में चयनित होता है; एक युवती, जिसे उसके दहेज़-लोभी ससुराल वाले घर से निकाल देते हैं, वो सामाजिक बहिष्कार से लड़ते हुये प्रशासनिक सेवा का इम्तिहान देती है और सफल होती है। और कैसे एक अख़बार बाँटने वाला युवक देश के सबसे प्रतिष्ठित प्रबंधन संस्थान IIM में पढ़ने का अपना अटूट इरादा पूर्ण करता है। उनके दमकते चेहरे देख के एक अजीब सी ख़ुशी हुयी, मानों मैंने खुद ही कुछ हासिल किया हो…

एक बात जो मन को छू गयी, वो आप को बताना चाहता हूँ। बैंगलोर के शिवा कुमार, जो कि पिछले दस-पन्द्रह सालों से, अपने स्कूल के दिनों से अख़बार बांटते हैं, आज अपने अनुभव साझा कर रहे थे। अनपढ़ माँ और कर्ज़ के बोझ से लदे ट्रक-ड्राइवर पिता का ये लाल अपने पूरे बचपन और युवावस्था के दौरान रोज़ सुबह 4 बजे उठ कर अख़बार डालता रहा; और अपने काम में इतना बेहतर हुआ कि न्यूज़-पेपर वेंडर बना; एक करुण और दयावान ग्राहक की मदद से अपनी पढ़ाई पूरी करी, इंजीनियर बना और अब IIM कलकत्ता पढ़ने जा रहा है।

रवीश ने शिवा से पूछा कि आखिरी बार उसने अख़बार कब बांटें थे। सहजता से उत्तर आया, “कल ही; यहाँ आने से पहले”। तालियों की गड़गड़ाहट से अविचलित उसने और आगे कहा, “मैं इस काम की वजह से आज आगे आया और यहाँ तक पहुंचा हूँ, भला उसे कैसे छोड़ता…”

कितनी उत्तम बात है, और कितनी ईमानदारी से कही गयी है…

मुझसे बहुत से लोग ये कई बार पूछते हैं कि सफलता का मंत्र क्या है। मैं समझता हूँ कि शिवा कुमार ने अपनी बात से बड़ी ही सरलता से इस प्रश्न का उत्तर दे दिया – सफलता का मंत्र अपने काम से ईमानदारी बरतने में है। जो व्यक्ति उन्नति के रास्ते पर बढ़ते हुए अपने आप को अपने काम से बड़ा समझने लगे, वो कुछ समय तक सफल तो हो सकता है, सार्थक नहीं बन सकता।

उम्मीद है कि आज के छात्र और कामकाज़ी लोग इस बात का महत्व समझेंगे। अब अपने अनुभव बाँटनें की आपकी बारी है; आप क्या सोचते हैं, बताईयेगा।

______________________________

Photo-credit: ibnlive.in.com

%d bloggers like this: