RRGwrites

On life…and learning

Posts Tagged ‘Books

मेरा हिमालय और उसका क़ब्रिस्तान

leave a comment »

मैं पिछले कई वर्षों से बद्रीनाथ यात्रा पर जाता हूँ। एक भक्त के रूप में नहीं, एक बाइकर के रूप में। हिमालय मेरा आँगन रहा है बालमन से और जब-जब मैं अपनी रॉयल एनफ़ील्ड मोटरसाइकिल ले कर बद्रीनाथ गया, वही पहाड़ और वही पहाड़ी रास्ते मेरे लिए पूज्य और देव-तुल्य रहे, किसी भी मंदिर से ज़्यादा।

हाल के सालों में – 2012 और 2015 – ये दो यात्रायें की बाबा बद्रीनाथ के द्वार को। आप कह सकते हैं – ज़लज़ला आने के पहले वाले साल और उसके दो साल बाद। जो देखा, और महसूस किया, वो शब्दों में बयां नहीं कर सकता। सड़कें तो बन गयीं हैं, पहले से बेहतर भी है। पर सड़को से नीचे उतर कर देखो, तो पहले और बाद का भयावह फ़र्क़ पता चलता है।

इसलिए, 2012 की यात्रा का वर्णन तो आप मोटरसाइकिल डायरीज में यहाँ पढ़ सकते हैं, पर 2015 की यात्रा के बारे में लिख पाऊँ, वो शब्द और हिम्मत अब तक नहीं जुटा पाया हूँ।

Himalaya ka Kabristanकुछ दिन पहले दैनिक भास्कर अख़बार में जयप्रकाश चौकसे साहब के लेख में एक किताब का वर्णन पढ़ा – ‘हिमालय का क़ब्रिस्तान’– ये शीर्षक है प्रत्रकार लक्ष्मी प्रसाद पंत की इस पुस्तक का। पिछले दो दिन में ये किताब पढ़ी। केदारनाथ-काश्मीर-काठमाण्डू – तीनो जगहों की हिमालय-उपजित त्रासदी के बारे में एक निर्भीक पुस्तक।

अगर आप भी मेरे जैसे हिमालय से सच्चा प्रेम करते हैं – और न सिर्फ इसे पूजते हों और न सिर्फ इसे छुट्टी बिताने का मनोरम पर्यटन स्थल समझते हों – तो इस पुस्तक को पढ़ने की सलाह मैं आपको दूँगा।

इस किताब को पढ़ने के बाद मुझे एक बात याद आती है। 2012 की मोटरसाइकिल यात्रा के दौरान मेरा छोटा भाई नितिन भी साथ था – अपनी पहली लंबी मोटरसाइकिल यात्रा पर और पहली बार पहाड़ पर। ज़ाहिर तौर पर उत्सुकता ज़्यादा थी और सवाल भी। मैं हिमालय के बारे में जानता-पढ़ता रहता हूँ और सामाजिक-भौगोलिक जानकारियां रखता हूँ, एक आम पर्यटक से ज़्यादा। जब हम बद्रीनाथ पहुंचे तो अगली यात्रा केदारनाथ की हो, ऐसी बात होने लगी। बद्रीनाथ मंदिर के ठीक नीचे अपनी पूरी शान से बहती अलकनंदा के बारे में बात करते हुए मैंने नितिन को केदारनाथ के साथ बहती मन्दाकिनी नदी के बारे में बताया। ये भी कि कैसे पहले मन्दाकिनी नदी दो धाराओं में बहती थी – पूर्वी और पश्चिमी। और कैसे समय के साथ अब सिर्फ एक धारा में ही प्रवाहित होने लगी है। नितिन ने पूछा कि दूसरी तरफ क्या है अब? मुझे जवाब मालूम नहीं था, सो बात वही ख़त्म हो गयी।

मैं आपको बता दूँ कि जब अगले ही साल 2013 में सैलाब आया, तो मन्दाकिनी नदी ने सारे बंधन तोड़ दिए और दुसरे पुराने रास्ते से भी बह निकली – और उसे रास्ते में मिले घर, दुकान, होटल और न जाने क्या-क्या – अपने रास्ते में उसे मनुष्य का किया अतिक्रमण मिला। और वो उसे बहा ले गयी… पंत जी अपनी पुस्तक के बारे में इस बारे में विस्तार से लिखते हैं… उसे पढ़कर मेरी आँखे भर आईं और भाई से हुयी बात याद हो आयी।

अंग्रेजी उपन्यासकार कजाओ इशीगोरो के हवाले से लेखक ने लिखा है:

“जैसे शतरंज के खेल में जब तक हम अपनी चाल के ऊपर से ऊँगली नहीं उठाते, हमें अपनी ग़लती का अहसास नहीं होता, वैसे ही प्राकृतिक आपदाओं का अहसास भी अचानक ही होता है जब हमारी गलतियाँ अति कर देती हैं।”

2012 में मेरे पास इस प्रश्न का उत्तर नहीं था कि मन्दाकिनी के दूसरे रास्ते में क्या है। 2013 के बाद से मेरे पास इस प्रश्न का उत्तर नहीं है कि क्यों प्रशासन आंखें मूंदे रहा इतने वर्षों से लगातार फैलते अतिक्रमण पर। हमने नदी के रास्ते में अपना घर बनाया और अब दोष नदी को, कि उसने अपना वही रास्ता वापस चुन लिया, तो वो दैवी आपदा है?

मैं लेखक से पूर्णतया सहमत हूँ कि यह कोई दैवी आपदा नहीं थी। ना उत्तराखण्ड में, ना ही कश्मीर और नेपाल में। ये मनुष्य के लालच का परिणाम हैं, जिसे हम दैवी आपदा और हिमालय का प्रकोप और न जाने और क्या-क्या नाम देते हैं।

2016 – मैं फिर से तैयार हूँ मई माह में बद्रीनाथ जाने को। इस बार मेरी और नेहा की माएं भी साथ जा रहीं हैं। वो 2013 में नहीं जा पाईं थी – वही साल जब सब जल-मग्न  हो गया था। परिवार ने तब चैन की सांस ली थी कि वो दोनों उस साल चार-धाम यात्रा पर नहीं जा पाईं। वो चैन की सांस जो हज़ारों-लाखों परिवार नहीं ले पाए। हिमालय मुझे फिर बुला रहा है और मैं इस बार कुछ डरता हुआ सा, पहली बार ऐसा महसूस करते, जा रहा हूँ।

Advertisements

‘Seek’ Your True Calling…

leave a comment »

Seek Finding Your True Calling

Just completed reading an insightful and extremely useful book – Seek – Finding Your True Calling’ by Rakesh Godhwani.

If you are an engineering or MBA student looking ahead to make a career choice, this book is a great investment – trust me, Rs.150/- spent on this book and one or two days spent in reading this masterpiece, albeit written simply, will fetch you a great ROI – provides you with ample food for thought – specially when you are at the cusp of making a crucial choice – what job or career to go for…

The book explores the key reasons why a large number of students leave their first job within first year of joining. However, quite usefully for the students, the author approaches the question differently … Why did they end up in these jobs in the first place?

Sounds interesting? It is, indeed. I meet a lot of young students and working professionals who battle a fierce challenge of poor engagement with their first jobs. And I can say, if not all, this book certainly attempts to provide some solutions, some guidance, and certainly forces you to make a more informed choice, rather than merely going for that great corporate brand and/or 6-digit salary offered at campus.

My first boss taught me a wonderful lesson; he said, “…find your true calling; promotions, salary-hikes, fame, and above all, an engaged work-life will follow you on their own…”

If you are a student aiming to enter the world of jobs, or a young professional trying to find your true calling yet, I would urge you to consider investing this Rs.150/-; you won’t regret spending it on learning the decision-making approach the author shares with you.

PS: Do let me know your thoughts once you’ve read the book!

____________________________________________________________

Image-credit: pagalguy.com

If you liked this post, you may also like reading these earlier blogs:

MBA की ‘मास्टरी’…

MBA at 16! A must read…

Women In India; What Has Changed Since Draupadi?

with 5 comments

Women of IndiaThey say, when you read something that is thought-provoking and worth sharing, do share with as many as you can. I am attempting the same with this blog.

Long ago, I had read a poem titled, ‘I Draupadi’. This was over a decade ago and I was deeply moved by it. Kartikeya Sarabhai, son of legendary Indian space scientist Vikram Sarabhai, penned this gem of a work in 1989, in an spontaneous afterthought having watched the performance of great Indian epic Mahabharata, a play directed by Peter Brook. I was in law-school when I read this, I thought it was a classic.

However, while reading a recently published book, ‘The State of the Nation’, (Hay, 2013), written by eminent jurist Fali S. Nariman, I came across this poem once again. Mr. Nariman, in his unique style, mentions about this poem while explaining the constitutional and legal position of the women-folk in India and the inequalities therein.

Same evening when I read this, I happened to meet a close friend of mine, whom I consider a quite well read and well informed person. However, when I mentioned about ‘I Draupadi’, she drew a blank. I was surprised; how come such a revolutionary work written about women is yet unknown to the most aware section of women itself! This incident made me think, and hence, I am writing this blog only to share this poem with you. It is worth a careful, slow read…

In the poem, Draupadi says:

The Swayamvara was mine,
the decision was my father’s.
No garland was worn, the garland was me.
The prize myself, the winner of the tournament
Not mine the decision whom to marry,
My heart was pledged to a bow and arrow…
My life an offering to the shooter of the fish

All rights belong to husbands, so says society,
But to be shared by five, a commodity in the market place?
Unknowingly Ma Kunti spoke: husband became husbands
In this the Pandava’s kingdom of Dharma
All this I accepted, became the wife of five,
To each gave a son
Yet was the only wife of none.

Gambling they went, invited by Duryodhana,
Lost all they had losing even themselves
I, unspared, was dragged into the court of men.
Which were these bounds of Dharma
That tied my husbands?
What kind of husbands [are] these,
That are tied by the Dharma of lies?

I asked, “What of me?”
Bhishma said, “Power is Truth, Dharma darkness”.
Robed limitlessly, I was saved by God.
The Kauravas stopped, exhausted, still not understanding.
Yes, Krishna gave me the cloth, but where was the Gita’s truth?
Was Arjuna not already in the need of that counsel then?

In words of Mr. Nariman, “The poem ends with a condemnation of the male gender for forsaking equality in practice:”

Years went by; our lives we lived together,
Started on our journey’s end towards the snow-clad Himalaya
I fell first; no Pandava stretched a hand.
Towards paradise they walked, not one stayed by my side,
Then I realised heaven too must be only for men…
Better then, to rest in the warm embrace of this snow.

Pretty hard-hitting, isn’t it? Well, I am tempted to ask, what really has changed for the womenfolk of India since the plight of Draupadi? I am asking as there are times when I find myself searching for answers…

I am leaving you with what Mr. Nariman wrote. It is indeed worth reading twice and introspecting – for all menfolk of India…

“The significance of the poem… highlights the difference between formal equality, professed by us all and, the actual inequality, which the fate of Draupadi has eternally symbolized – the inequality that women have had to bear, and continue to suffer, even in the present day India.”

This blog was straight from the heart; I am sharing this with a hope that something, at least in few of us, would change for better…

______________________________________________

Photo-credit: cartoon movement.com

Post-script: For those of you who may not be aware, noted choreographer, dancer and social-activist Mallika Sarabhai, (sister of Kartikeya Sarabhai) performs the role of Draupadi in Peter Brook’s play. Worth searching about it on the Youtube!

 

Intruding Dragon…Complacent Elephant!

with one comment

Like me, you must also have been following the sad state of affairs at the India-China border in Ladakh. And I am sure, you too would be equally appalled, if not disturbed by the series of events. And not only because of the brazen incursion of our borders by the Chinese armed forces, but also because of the rather indecorous attitude of the Indian government.

An avid reader of political history that I am, I recall a masterly account of mismanagement of the Indo-China relations by Indian governments, written by the veteran journalist-cum-politician Arun Shourie – ‘Are We Deceiving Ourselves  Again’ (Rupa, 2008). I read this book in 2008 and it opened my eyes. The book is a myth-breaking one, and shatters the popular belief that China deceived us in 1962 and thus, we were caught unprepared. Nothing is as false as this, so proves this book beyond any reasonable doubt whatsoever. Scanning official letters of the then Prime Minister Jawahar Lal Nehru, Shourie writes a detailed account of un-statesman like behaviour of Nehru and brings out the truth that it is we ourselves who deceived ourselves into believing that the Chinese intentions (of those times) were honourable, that they were treating us as equals and would not do anything objectionable. And none other than our own Prime Minister Nehru rather eloquently accepted then, “Morally, I find it difficult to say that the Chinese government has deliberately deceived us at any stage. We may have deceived ourselves.”

Over five years ago, much before today’s grim situation came to light, Shourie penned this book and tore into the similarity of the lackadaisical attitude of Manmohan government, insofar negotiating the Dragon’s brazen attitude.

I don’t intend to write a book review here. Neither I intend to write an emotionally charged critique of how the present day complacent Indian Elephant is not able to restrain the overbearing Red Dragon of China. Much is already being written and said about this subject. I just wish to share with you the captivating, and thought-provoking, cover-page of Shourie’s book; I took this book out of my library today and clicked this image specially to share with you. This cover is depicts a series of 6 images from back to front; rather displays 6 frames of one photograph, where the Indian premier is walking towards his Chinese counterpart. To know how we are downgrading ourselves all over again, negating any possible learning from the inglorious debacle of 1962, you don’t have to read the entire book. The image in itself says it all.

Please observe the frames one-by-one, starting from the extreme left; you’d note the scary message it gives…

Are We Deceiving Ourselves Again - RRGwrites

Dear Indian Commoner, do you now see how we are deceiving ourselves yet again?

I leave you with what legendary top-cop KPS Gill said and Shourie quoted. It makes an alarming reading in today’s context…

“There is… one general principle that must guide our explorations, perspectives, plans and projections: the primary and most effective strategy to avoid war is to prepare for it.

It is one of the ironies of the human condition that if you love peace, you must be ready and willing to fight for it. The weak, the vulnerable, the unprepared and the irresolute will always tempt the world and call misfortune and ruin upon themselves. This is tragic, but it is the inexorable lesson of history.

It is strength that secures respect and dignity; conciliation, appeasement, and a desperation to avoid confrontation at all costs – these will only bring contempt and aggression in their dower.”

I am sure under the garb of his ‘dignified(?) silence’, our sealed-lipped Prime Minister has also shut his eyes and ears to this reality…

क़िताबियत…

with 9 comments

Readingआज ‘वर्ल्ड बुक डे’ है। अपने आप में अनूठा ये दिवस हर साल 23-अप्रैल को सौ से भी अधिक देशों में मनाया जाता है। UNESCO द्वारा स्थापित ये दिन पुस्तकों, लेखकों, प्रकाशकों और कॉपीराइट का प्रतीकात्मक माना जाता है। कुछ ऐसा मान लीजिए कि ये क़िताबों का, पढ़ने का, पाठन-पठन, अध्ययन का उत्सव है।

मैं क़िताबों का बड़ा शौक़ीन हूँ, बचपन से ही। अमूनन छोटे बच्चे वो सब जल्द सीख जाते हैं जो वो अपने वाल्दैन को करते देखते हैं। हमने यह आदत अपनी माँ से पाई, जो जैसे ही बाबा सुबह काम को जाते और घर का काम ख़त्म होता, कोई न कोई क़िताब, पत्रिका, समाचार-पत्र, इत्यादि पढ़ती मिलतीं। रोज़ दिन के वक्त जब मैं स्कूल से वापस आता तो ये नज़ारा सामने पाता। मालूम होता है कि उस समय मेरे बाल-मन को ये दृश्य भा गया होगा; फिर तो जो ‘क़िताबियत’ की लत लगी, वो आज तक जारी है।

मुझे याद आता है कि आठ-नौ साल का होते-होते मैंने बहुत सारी किताबें पढ़ ली थीं। न सिर्फ़ किताबें, पर बहुत सारी कॉमिक्स और पत्रिकाएँ भी। तो जो थोड़ा बहुत विज्ञान, सामान्य-ज्ञान और दुनिया-भर के देशों की रैय्यत-रवायत के बारे में जानकारी आज मुझे है या और जानने की उत्सुकता कभी हुई, उसका इल्ज़ाम स्कूल की क़िताबों पर नहीं, ‘अमर चित्रकथा’ और ‘टिंकल’ के अनेकानेक अंकों पर है। इसी तरह से जो देश-दुनिया की राजनीति के बारे में पढ़ने का कीड़ा लगा, वो किसी और वजह से नहीं पर उस ज़माने की पत्रिका ‘माया’ से लगा; और मैं कह सकता हूँ कि इस विलुप्त हो चुकी पत्रिका का मुकाबला कोई समकालीन राजनितिक पत्रिका नहीं कर सकती।

बचपन में क़िताबें पढ़ने का कुछ फ़ितूर सा था। वैसे तो हम घर पर होते नहीं थे – खेल-कूद ज़िन्दाबाद, पर जब होते तो कोई-न-कोई क़िताब हर वक्त हाथ में होती थी। रिश्तेदारी में आना-जाना होता तो भी वहां कुछ पढ़ने के लिए ढूँढ कर हम एक कोना पकड़ लेते, और कई बार याद है कि डांट खाई कि अब खाना खाते समय तो क़िताब से नज़रें हटा लो; पर हम भी एक अलग ही ढीठ थे भाई, मज़ाल है कि मान जायें। उस ज़माने में एक नयी बला भी आयी थी – विडियो-गेम्स। सारे चचेरे-ममेरे भाई-बहन उसी पर लगे रहते, पर हमें तो कुछ मज़ा नहीं आया ‘मारियो’ खेलने में कभी; हम तो बस जब भी चारदीवारी के भीतर होते, तो कुछ-न-कुछ पढ़ते ही पाए जाते.

एक और किस्सा इसी क़िताबियत का ज़हन में है – लखनऊ का बाल-संग्रहालय और उसकी लाइब्रेरी। उत्तर प्रदेश के शायद आखिरी सभ्य और जनपालक मुख्यमंत्री, स्व. चन्द्र भानु गुप्ता जी, ने अपने विशाल सम्पति दान दे कर ऐसी भलमनसाहत से प्रेरित कई संस्थाएं बनायीं थी, जो आज भी चल रही हैं और उन अरबों रुपयों से बने ‘माया-स्मारकों’ से कहीं ज्यादा समाज का भला और ‘परिवर्तन’ कर रहीं हैं। खैर, मैं विषय से भटक रहा हूँ, बात तो क़िताबों की हो रही थी ना। आठ साल की उम्र में माताजी ने हमारी किताबें ख़रीदने के चस्के पर लगाम लगाते हुए हमें इस पुस्तकालय का रास्ता दिखाया, जो कि आना-जाना मिला के पूरे 6-किलोमीटर लंबा था। और इस ग़लतफ़हमी के बिना कि आज के ‘साहबज़ादों’ की तरह कोई लेने-छोड़ने जायेगा, हमें माँ ने कुल दस पैसे का सदस्यता-फॉर्म और सिर्फ दो-रुपयों की ‘कॉशन-मनी’ (जी हाँ, आपने ठीक पढ़ा; अमां मियाँ, तब सस्ते का ज़माना था!) दे कर लाइब्रेरी का मेम्बर बनवा दिया। अब हम जा पहुँचे एक ऐसी दुनिया में जहाँ एक विशालकाए लाइब्रेरी की बरबस मदहोश कर देने वाली महक थी। अब भाई, पुस्तकों की दुनिया कुछ ऐसी ही लगती थी हमें। याद पड़ता है कि दो-तीन महीनों की 1988 की गर्मियों की छुट्टियों में हमने कितनी ही किताबें घोट डालीं – भारतीय और विश्व साहित्य दोनों। अपने राम रोज़ सुबह 9:30 बजे घर से निकलते, पैदल चलते हुए ठीक दस बजे लाइब्रेरी के दरवाज़े पर। और फिर सीधे पांच बजने पर बाहर आना होता। ये कवायद पूरी गर्मी चलती, और बस जिन दिनों क्रिकेट-मैच खेलने के चक्कर में हम ना जा पाते, उन दिनों के लिए एक-दो क़िताबें घर ले आते। ये सिलसिला 1990 तक चला, तब तक हम दस साल के हो गए थे और एक दिन हमें ‘बाल-संग्रहालय’ से बाहर कर दिया गया, यह कह कर कि अब हम ‘बाल’ नहीं रहे! क्या बताएं आपको साहब कि कितना गुस्सा आया; मन हुआ कि पूँछें कि किस नामुराद ने यह तय किया था। पर कुछ लाइब्रेरियन का डर और उससे ज्यादा माँ-बाबा की इज्ज़त के लखनवी लिहाज़ ने मुंह सिल दिया और हम मन-मसोस के रह गए। बड़े दिनों तक इस लाइब्रेरी से बिछड़ने का रंज रहा; आज के ज़माने में शायद ‘ब्रेकअप’ होने पर कुछ ऐसा ही महसूस होता होगा।

Cathedral Library Card

क़िताबों से इश्क कुछ यूं ही परवान चढ़ता रहा; और बहुत से पुस्तकालय जीवन में आये और उनसे बहुत कुछ सीखा और पाया। लखनऊ के कैथेड्रल स्कूल का ‘लाइब्रेरी पीरियड’, जिसके दौरान निराला, नागर और बच्चन से परिचय हुआ और जहाँ लाइब्रेरियन-मैडम सिंह ने अंग्रेजी साहित्य से दोस्ती करवाई। या फिर Symbiosis Law College की लाइब्रेरी, जहाँ दिन के आठ-आठ घंटे बैठ हमने क़ानून से दोस्ती की। उसके और भी फायदे हुए; एक दिन प्रिंसिपल साहब, डा. रास्ते, ने हमे क़ानूनी क़िताबों से पेंच लड़ाते देखा, ना-मालूम कैसे उन्हें हमारे ज़हीन होने का शक़ हुआ और फिर हमें प्रतिष्ठित ‘Symbiosis Law Journal’ का संपादक चुन लिया गया। इस बड़ी ज़िम्मेदारी को निभाते हुए हमने महान वकील ‘नानी पालकीवाला’ के ऊपर एक संस्करण छापा, जो आज भी देश-भर की क़ानून-सम्बंधित पुस्तकालयों में रखा देखा जा सकता है। ये सम्मान भी हमारी क़िताबियत के शौक़ में मिला। एक और बात इस समय की मुझे याद आती है कि वहां की लाइब्रेरियन-मैडम, जो ऊपर से बड़ी ही सख्त-मिजाज़ थीं और जिनसे सब डरते थे, मुझसे एक अबोला स्नेह रखतीं थीं और जब मैं कॉलेज छोड़ कर दिल्ली आ रहा था तो सिर्फ वो थीं वो कुछ दुखी मालूम हुईं थीं।

दिल्ली विश्वविद्यालय आने पर मालूम हुआ कि दिल्ली स्कूल ऑफ़ इकोनॉमिक्स की रतन टाटा लाइब्रेरी का तो क्या ही कहना, मानो क़िताबों का अथाह समंदर। ऊपर से लॉ-फैकल्टी के पुस्तकालय जाने का जुगाड़ भी हमने ढूँढ लिया था। VKRV छात्रावास में भी प्रो. मित्रा के मार्ग-दर्शन में एक बेहतरीन लाइब्रेरी बनाई गयी थी, जो ज़्यादातर उन छात्रों की दान की हुयी पुस्तकों से बनी थी जो पढ़ाई पूरी कर के ‘कॉर्पोरेट-जगत’ में अपना भविष्य बनाने निकलते थे। इन तीनो जगाहतों के सायों में हमारी क़िताबों से मित्रता चलती रही।

नौकरी में आने के बाद भी यह इश्क़ कम नहीं हुआ; पहले बॉस ने बहुत ही सख्ती से समझा दिया कि मैनेजमेंट में अच्छा करना है तो अपनी जानकारी दुरुस्त रखो। अब हम तो जी खुश हो गए; ‘अँधा क्या चाहे, दो आँखें’ वाली मिसाल मानों सच हो रही हो। सो पढ़ना बदस्तूर जारी रहा और बॉस से भी बिना चापलूसी की ज़हमत उठाये दोस्ती सी हो गयी और फिर उसके बाद बहुत कुछ सीखने को मिला।

सालों बाद जब जीवन-संगिनी से मुलाक़ात हुयी तो मालूम हुआ कि उनकी ज़हीनियत का राज़ भी उनकी क़िताबों से दोस्ती है जो उन्होंने अपने वाल्दैन से विरसे में पायी थी। फिर क्या था, दो क़िताबी शौक़ीनों साथ आने पर और भी कई नयी पुस्तकों से दोस्ती हुयी, और पिछले 6 सालों में अनगिनत क़िताबें पढ़ डाली गयीं। कुछ समय पहले बीवी ने इस शौक को लिखने तक बढ़ाने का मशवरा दिया, जो इस blog की सूरत में तामीर है।

क़िताबों का प्रेम भी अनूठा है। मशहूर इसरायली लेख़क, अमोस ओज ने अपनी आत्मकथा – ‘अ टेल ऑफ़ लव एंड डार्कनेस’– में लिखा है:

“…जब मैं छोटा था, तो मेरा सपना था, बड़ा होकर मैं एक क़िताब बनूँगा। लोगों को चींटियों की तरह मारा जा सकता है। लेखकों को मारना भी कोई मुश्किल काम नहीं, लेकिन क़िताबों को नहीं। आप कितना भी योजनाबद्ध तरीके से किसी क़िताब को ख़त्म कर लेने की कोशिश करें, एक संभावना हमेशा बनी रहेगी कि उसकी कोई एक प्रति दुनिया की किसी न किसी लाइब्रेरी के एक कोने में जिंदा बची हुई है।”

अब ज़माना बदल रहा है और उसके साथ पढ़ने की कला भी। पिछले कुछ सालों में लोगों को नयी तरह से किताबें पढ़ते देखता हूँ – ebooks! कितने तरह के तकनीकी उत्पाद आ गए हैं; Kindle, Google Nexus, iPad ने मानो क़िताबों को एक नया स्वरुप दे दिया है। दुनिया भाग रही है, तो क़िताबें पढ़ने का तरीक़ा भी बदलता जा रहा है। और फिर कहाँ है आज-कल के सिमटते घरों में क़िताबों की अलमारियां लगाने की जगह? और फिर ये क़िताबें सहेजने की ज़हमत उठाने की ज़रूरत क्या जब एक Kindle हज़ारों-हज़ार पुस्तकें अपने छोटे से आकार में समेट लेता है…और ये भी देखता हूँ कि ebook-reader बनाने वाली बड़ी-बड़ी कंपनियों ने अपने उत्पादों को असल क़िताब की शक्ल-सूरत देने की कोशिश की है, शायद मेरे जैसे कुछ बीसवीं सदी के क़िताबी-कीड़ों के मद्देनज़र…

आज मेरे एक हाथ में एक क़िताब है जो मैं एक बड़ी-सी क़िताबों की दुकान से खोज कर लाया हूँ, और दूसरे हाथ में एक iPad, जिसमें कई क़िताबें समायी हुईं हैं। मन बारहां असल क़िताब की तरफ़ भागता है; उसके पन्नों में मेरे बचपन की महक है, उन पुस्तकालयों की यादें हैं जहाँ मैंने अपने सैकड़ों दिन बिताये, उन दिनों की याद है जब पैसे जोड़ कर मैं क़िताबें खरीदता था और सहेज कर रखने का जतन करता था। इस बेगानी सी ebook में वो बात कहाँ…

गुलज़ार साहब की एक नज़्म आज पढ़ी, जिसका शीर्षक है – ‘क़िताबें झांकती हैं’। शायद यह पंक्तियाँ उन्होंने किसी ऐसे ही मौके पर लिखी है –

क़िताबें झांकती हैं बंद अलमारी की शीशों से
बड़ी हसरत से तकती हैं
महीनों अब मुलाकात नहीं होती
जो शामें उनकी सोहबत में कटा करती थीं
अब अक्सर गुज़र जाती हैं कंप्यूटर के परदे पर

बड़ी बेचैन रहती हैं क़िताबें
उन्हें अब नींद में चलने की आदत हो गयी है
जो ग़ज़लें वो सुनातीं थीं कि जिनके शल कभी गिरते नहीं थे
जो रिश्ते वो सुनातीं थीं वो सारे उधड़े-उधड़े से हैं

कोई सफ़ा पलटता हूँ तो इक सिसकी निकलती है
कई लफ़्ज़ों के मानी गिर पड़े हैं
बिना पत्तों के सूखे ठूंट लगते हैं वो सब अल्फाज़
जिन पर अब कोई मानी उगते नहीं हैं

जबां पर जायका आता था सफ़े पलटने का
अब ऊँगली क्लिक करने से बस एक झपकी गुज़रती है
बहुत कुछ तह-ब-तह खुलता जाता है परदे पर
क़िताबों से जो ज़ाती राब्ता था वो कट सा गया है

कभी सीने पर रख कर लेट जाते थे
कभी गोदी में लेते थे
कभी घुटनों को अपने रहल की सूरत बनाकर
नीम सजदे में पढ़ा करते थे
छूते थे जंबीं से

वो सारा इल्म तो मिलता रहेगा आईंदा भी
मगर वो जो उन क़िताबों में मिला करते थे
सूखे फूल और महके हुए रुक्के
किताबें माँगने, गिरने, उठाने के बहाने जो रिश्ते बनते थे
अब उनका क्या होगा।

UNESCO ने इस दिन की स्थापना इस उद्देश्य के साथ की थी कि लोगों में पढ़ने की आदत बनी रहे, ख़ास तौर से इसलिए कि युवजनों के मध्य यह प्रथा और भी विकसित हो। मैं कितना भी असल क़िताबों का पक्षधर हूँ, कहीं मन खुश भी है कि ebooks और Kindle ने नयी पीढ़ी को पढ़ने की ओर खींचने का काम किया है। तो आईये, हम आज पढ़ने का उत्सव मनाएं, अध्ययन की कला को जीवंत बनाये रखें और सम्मानित करें उन लेखकीय योगदानों को जिन्होंने क़िताबों के ज़रिये मानवता के सामाजिक और सांस्कृतिक उत्थान का मार्ग प्रशस्त किया।

___________________________

Photo-credit: squ.edu.om

TATA Log

with 2 comments

TatalogI wish to share with you all a superb book that I just started reading – ‘Tatalog. Today, I completed the first two chapters and am impressed! Written by Harish Bhat, MD of Tata Global Beverages Ltd, and published by Penguin, this is a collection of “hitherto untold…eight modern stories from a timeless institution.”

For readers who don’t know ‘Hindi’ language, ‘log’ is a hindi word for ‘People’. I got drawn towards reading this book only because the foreword was penned by one of my all-time favourite authors, R Gopalakrishnan. You would recall Gopalakrishnan through his bestseller books – ‘The Case of The Bonsai Manager’ and ‘When The Penny Drops’. However, now that I have read the first 50 pages and learnt about the untold story of the ‘Tata Indica’, written so aptly by a Tata insider, I am so looking forward to reading further… about Tanishq, Tata Finance, Tetley, EKA, about ‘second careers of intelligent women’ and Tata Steel.

I will surely come back with a detailed book-review in few weeks’ time for you. Till then, I am leaving you with what Gurcharan Das opined about the book; do note the power of the last phrase:

“This is not a hagiography. In the tradition of the best business books, it teaches something about the way the world works. It explains why the Tatas have endured for 150 years: not because they did not make mistakes, but their errors were portals of discovery.”

 So apt, isn’t it?

I would recommend this to all who follow writings on organization & change and who wish to learn from the massive human effort called ‘TATA’.

My Learning From Alice In Wonderland…

with 4 comments

AliceRight since my childhood years, and even to date, I am deeply fascinated with Lewis Carroll’s legendary character – Alice. Immersed in her very own Wonderland, she always intrigued me – some of my finest learning of life comes from this book ‘meant for the children’! Carroll was a rather gifted man of diverse interests in logical reasoning, science, philosophy and mathematics; to my mind, his words have much deeper meaning than merely intending to be a children’s book. Celebrating ‘curiosity’ at every available opportunity, Alice is a truly timeless character and some of her words occupy my thought process to date; I have found them really useful every time I have read them. Sharing seven of them with you:

  • “But”, said Alice, “the world has absolutely no sense, who’s stopping us from inventing one?”
  • Alice laughed, “There’s no use trying,” she said, “one can’t believe impossible things.” “I daresay you haven’t had much practice,” said the Queen. “When I was your age, I always did it for half-an-hour a day. Why, sometimes I’ve believed as many as six impossible things before breakfast.”
  • “Do you think I’ve gone round the bend?” 
    “I’m afraid so. You’re mad, bonkers, completely off your head. But I’ll tell you a secret. All the best people are.”
  • “If everybody minded their own business… the world would go round a deal faster than it does.”
  • “You should learn not to make personal remarks,” Alice said with some severity; “it’s very rude.”
  • “Would you tell me, please, which way I ought to go from here?”
    “That depends a good deal on where you want to get to,”
    said the Cat.
    “I don’t much care where…” said Alice.
    “Then it doesn’t matter which way you go,”
    said the Cat.
  • “Tut, tut, child!” said the Duchess. “Everything’s got a moral, if only you can find it.”

Through the words of wisdom above, Alice leaves an indelible impression on the mind, shaping character, instilling values like power of imagination, trying & risk-taking, finding sense amidst chaos, managing self and that nothing is impossible. All through, she tries to interpret everything around her in a logical manner, and you’d often note the conflict between her desire to be mature, rational & grow up and her natural ingenuous whims; a skirmish that most of us adults face almost daily in our lives.

Now that you’ve looked closer, don’t you agree with some of the deeper messages Alice delivers to us adults too, specially in the chaos of the corporate world?

__________________________________

Photo-credit: weheartit.com

%d bloggers like this: