RRGwrites

On life…and learning

Archive for August 2013

आओ, हम कुछ बदलें…

with 2 comments

Dilli

आज बड़े दिनों के बाद एक पुराने मित्र से बात हुयी। हम बचपन में साथ में पढ़ते थे। बाहरवीं के बाद वो देश से बाहर चला गया, पढ़ाई पूरी की, वहीं नौकरी कर ली। देश आता-जाता रहा, पर पिछले 15 सालों से दिल्ली में समय नहीं बिताया। बस, अभी कुछ दिन हुए, अपनी कंपनी के एक प्रोजेक्ट के सिलसिले में एक साल के लिए दिल्ली आया है।

उसने दुनिया घूमी है, और कुछ तीन महीनों से दिल्ली में रहता है। खूब बातें हुयीं, कई पुरानी यादें ताज़ा हुयी। कुछ यूँही ख्याल आया, मैं पूछ बैठा, “अमां यार, बड़ी दुनिया घूम आये, कई छोटे-बड़े शहर देख डाले तुमने। ये तो बताओ कि दिल्ली कैसी लगी?”

“अच्छी है, भाई, बहुत बढ़िया। जो सुनते थे, उससे बेहतर ही है कुछ मायनों में”, उसने कहा।

“तो फिर ये कहो कि वो क्या पांच चीज़ें बदल जाएँ यहाँ तो ये शहर दुनिया के उम्दातरीन शहरों में शामिल हो जायेगा?”, मैंने कुरेदा।

जो जवाब दिया उसने, वो आप सब से बाँटना चाहता हूँ:

  1. राह-चलती महिलाओं को इतना तो मत घूरो यार; ये तो यहाँ बहुत ही ज्यादा होता है!

  2. रेड-लाइट होने पर लोग-बाग़ रुकने लगें, तो जान-में-जान आये।

  3. तुम लोग अपने कार, स्कूटर-मोटरसाइकिल चलाते हुये या उनमे बैठे हुए दूसरी गाड़ियों के अन्दर क्यों झांकते रहते हो?

  4. डस्टबिन न मिले तो टॉफ़ी, पान-मसाला खा के रैपर जेब में रख लो; सड़क पर तो न फेंको।

  5. ऑटो वाले मीटर से चलने लगें, तो क्या बात है! और कृपा कर के कहीं जाने के लिए सवारी को मना तो न करें।

फिर वो बोला, “यार, कमियाँ तो सब देशों और शहरों में हैं; पर हमें तो अपने आस-पास को बेहतर बनाने के बारे में सोचना, करना चाहिए, नहीं?”

फ़ोन रखने के बाद मैंने सोचा, क्या सही बात है। ये वो आदमी है जो सिर्फ तीन-चार महीनो से यहाँ पर है, ये सब महसूस और देख चुका है; और दिल्ली के इस स्वरुप के बारे में चिंतित है। नहीं कह सकता कि इन पांच बदलावों में ऐसा क्या है जो हम दिल्लीवाले नहीं जानते, या अपने घरों में बैठे हुए इनके बारें में शिकायत नहीं करते। शायद रोज़ ही घरों और दफ्तरों में हम इस बारें में बातें किया करतें हैं। पता नहीं क्यों, फिर भी ये पाँचों चीज़े ठीक नहीं होती हमारे आस-पास…

इस उम्मीद में आपसे साझा कर रहा हूँ कि आप खुद भी सोचेंगे और अपने करीबियों को भी बतायेंगे। कुछ तो बदलेगा, ये विश्वास है…

आप दिल्ली में ऐसा क्या बदलना चाहेंगे, जो आपके-मेरे हाथ में है?

Advertisements

Written by RRGwrites

August 25, 2013 at 7:03 PM

My Deputy Is Doing Well. And I Am NOT Threatened!

with 2 comments

BossExamples of quality leadership in our daily lives are almost a rarity. It is even uncommon to see a supervisor allowing & appreciating the growth of his second-in-command. In fact, the world knows so-called-leaders who rather feel unduly threatened if the deputy performs brilliantly and is ready to take on higher roles!

So, today it felt food quite good to read what Mahendra Singh Dhoni had to say about his deputy – Virat Kohli. The most successful-ever Indian Cricket team captain was not only all praises for the vice-captain’s coming of age and successful captaincy stint during the series at Zimbabwe, he was more than pleased to see the youngster easing into the leadership role.

Appreciating the evolution of Virat from a consistently performing star batsman into a mature player and leader, Dhoni said, “The best thing about him is that he is very expressive, and that helps a captain… He now has all the ingredients to lead a side…”

Now, that’s a true leader talking. Mind you, he isn’t only praising; he is rather making a strong case for Virat as a captain. And yet, one can note that Dhoni is least bit insecure to do so, while he knows there can be only one captain of Team India – and right now, he himself occupies that role! Some self-belief, team-spirit and personal integrity, this is…

Not only such examples of leadership magnify high self-assurance and self-confidence, it also amply demonstrates the leader’s commitment towards nurturing his subordinates, timely succession planning and talent development, in a concerted and committed manner. Much unlike than the unauthentic gibberish that does the rounds during annual talent management exercises in the corporate world.

My first boss taught me a valuable lesson – the key to success for any deputy is to do such good work that his boss gets promoted and recommends him for taking his spot!

And here is what I derived from my own experiences of leading teams – another imperative lesson – the key for any boss to do well and become successful is to grow his subordinates; nurturing them into leaders, sometimes even better than him. And certainly, not feeling threatened when they perform exceedingly well!

While the world is replete with poor managers (I refuse to address them as leaders), who start feeling vulnerable when their subordinates outperform them and get ready to take on their mantles, I am also sure there are many like Dhoni around.

That’s the light of hope in the arena of leadership, the biggest skill required in today’s times.

Have you also experienced supervisors who were threatened to see their subordinates out-perform them? Or, you did experience a Dhoni like leader too? Let me know what you think.

The Dilemma of Focus Vs. Multitasking

with 6 comments

multitasking-vs-focus-mediumA young management professional reached out to me today with an oft-repeated dilemma – what to chose between Focusing on one thing and Multitask. A year out of the college now, she was taught at her management school that it is good to have the skill of ‘multitasking’. And now, the same is expected at her workplace too. Armed with this learning, she till now firmly believed in the concept of multitasking to excel at work and life alike. However, working for sometime now in the corporate world, she often finds herself caught in the predicament of focusing on one thing at a time vis-à-vis multitasking – that how working on many things simultaneously may also lead to distraction in focus from the most important thing at that time!

“Won’t it impact the quality of work, leave a piled-up list of unfinished tasks and finally diminish my productivity, which could have rather been augmented by focusing on doing one thing at a time?” she asked.

I am sure many of you would have faced the same dilemma, especially during starting years of your working life. And the question is quite valid too – this dilemma does exist. It would appear that in some cases, multitasking is undeniably an efficient way to utilize time, while on other occasions, the quality of the work may suffer as a result of split attention.

Few years ago, a teammate shared with me his success secret, with quite an apt description of FOCUS

Follow One Challenge Until Success is achieved

I could not agree more!

And yet, on the other hand, multitasking is a really crucial & necessary skill demanded out of the working professionals in the chaos of today’s fast-paced scenario.

Here is what I learnt in all these years – these two are the two wheels of a bike. Both are quintessential and one cannot ride a bike on only one wheel. Given the situation, there is a reasonable dependency on both approaches and a balance needs to be achieved by ‘prioritizing’ the work.

I would like to share an invaluable lesson I learnt from an old supervisor – multitasking becomes difficult as we also confuse, a lot, between Urgent and Important – we often assume both to be same. Don’t you receive a lot of emails, with subject as Urgent and/or Important? However, in reality, not all work that is important will be urgent. Similarly, all urgent work may not be necessarily important; sometimes otherwise non-important work too requires urgent attention and action.

If we do not prioritize carefully, we can fall into this trap of

multitasking = distraction in our focus.

Then, there is more to it. Quite often, I have observed that we tend to take too much work on our plate – blame the old-fashioned fear of not being able to say ‘No’. That also leads to poor quality in the outcome, delay in timeslines and increased performance-related anxiety and/or stress. In this case, eventually, both work and the worker suffer. Hence, I would say that when you do decide to multitask, make sure to check your work carefully so as to ensure that it is of high quality, and consider abandoning multitasking for certain tasks if you notice a decline in quality. Saying a timely ‘no’ to a task you cannot do justice to is also a right start.

Again, there is an element of one’s engagement at work. As I keep saying, the real mantra behind a successful professional delivering quality output consistently is the quantum of her engagement at work. If she is working on the things that make her feeling productive and successful at the end of the day, she will be positively driven and encouraged to give her best in the same time duration and hence, this dilemma of focus vs. multitask will really not bother her way too much.

A successful professional will have a strong sense of planning her time and energy; she will focus on the high priority things at the time, while not losing sight of other simultaneous deliverables.

This is what I think and that’s how I manage the balance between focusing on priority and multitasking. Now, it is your turn. Let me know what you think. Do you too get embroiled in this dilemma? Do share your experiences.

___________________________________________

Photo-credit: rodneygoldston.com

लखनवियत…

with 7 comments

आज नवभारत टाइम्स अखबार में ब्रजेश शुक्ल का लेख पढ़ा – “इस लखनवियत पर पूरी दुनिया कुर्बान” – मज़ा आ गया। और याद आया वो जुमला, जो हमारे वालिद साहब कहा करते थे –

‘लखनऊ की नज़ाकत है, कि रसगुल्ले भी छील के खाए जाते हैं।’

बड़ी ही इच्छा है कि आप लोग भी इस लेख को पढ़ें। इस अंग्रेज़-दां ज़माने में शायद आप में से हिंदी का अखबार घर मँगाने और पढ़ने वाले कम ही होंगे, इसलिए मैं इस लेख को साभार प्रस्तुत कर रहा हूँ –

********************************************

इस लखनवियत पर पूरी दुनिया कुर्बान
बृजेश शुक्ल।।

नवभारत टाइम्स | Aug 13, 2013

‘पहले आप! कहने की ताब वही ला पाते हैं जिनमे औरों को खुद से आगे रखने की सभ्यता हो

पुराने लखनऊ में मेरे एक दोस्त रहते हैं। एक दिन अपना घर दिखाने लगे और मुस्कराकर बोले- यहां से वहां तक आपका ही घर है। लखनवी तहजीब, नफासत, नजाकत, इलमी अदब, वजादारी, मेहमानवाजी, हाजिर जवाबी में लखनऊ का दुनिया में कोई जोड़ नहीं। पिछले तीस सालों में लखनऊ कहां से कहां तक तरतीब और बेतरतीब ढंग से बढ़ा, उससे यह सवाल जरूर उठा कि लखनवियत अब बचेगी या नहीं। लेकिन टुकड़ों में ही सही, लखनवियत आज भी जिंदा है। विकास की अंधी दौड़ में समाज का बड़ा वर्ग ‘पहले आप! पहले आप!’ की तहजीब को भी नहीं समझ पाया। कुछ लोगों के लिए यह शब्द मजाक का विषय भी बना। लेकिन यकीन मानिए, ‘पहले आप! पहले आप!’ तो उसी महान संस्कृति के लोग कह सकते हैं, जिसमें कुर्बानी का जज्बा हो, जिसमें मेहमाननवाजी और दूसरों को तरजीह देने की कूवत हो। जो पहले खुद के लिए परेशान है, वह पहले आप बोल ही नहीं सकता।

नवाब आसफुद्दौला

लखनवियत लखनऊ के रस्मोरिवाज में घुली-मिली है। रमजान के दिनों में आप देर रात पुराने लखनऊ की गलियों में घूमिए। चाय की दुकानों में सामने रखे चाय के प्याले की ओर इशारा करते हुए यह कहने वाले आपको बहुत से लोग मिलेंगे- नहीं-नहीं, पहले आप लीजिए। लखनऊ में सन् 1722 में नवाबों का शासन आया और 1857 तक चला। लेकिन लखनवियत पनपी और बढ़ी 1775 से, यानी नवाब आसफुद्दौला के शासनकाल से। नवाब वाजिद अली शाह के समय में तो इस तरह फली-फूली कि लोग इस पर कुर्बान हो गए। वास्तव में लखनवियत तीन बुनियादी मूल्यों पर आधारित है। पहला इंसानियत, दूसरा हक यानी किसी जाति-धर्म का व्यक्ति हो, उसके साथ किसी तरह का भेदभाव न हो। तीसरा बिंदु है धर्मनिरपेक्षता- हर मजहब और मिल्लत की इज्जत करना और उसकी बेहतर चीजों को अपनाना। यहां बहुत से हिंदू एक दिन का रोजा रखते है। मोहर्रम के दिनों में तमाम हिंदू महिलाएं इमामबाड़े व ताजिये के सामने जाकर मन्नतें मांगती हैं। जी हां, आज भी।

जोगिया मेला और इंदरसभा

‘काजमैन रौजा’ लाला जगन्नाथ ने बनवाया था। नवाब आसफुद्दौला के वजीर झाऊलाल ने ठाकुरगंज में इमामबाड़ा और टिकैतराय ने एक मस्जिद बनवाई। अमीनाबाद में पंडिताइन की मस्जिद मशहूर है। अलीगंज के हनुमान मंदिर के शिखर पर चमकने वाला इस्लामी चिन्ह चांद-तारा लखनवियत का प्रतीक है। इस मंदिर की संगेबुनियाद नवाब शुजाउद्दौला की बेगम और नवाब आसफुद्दौला की वालिदा बहूबेगम ने रखी थी। इस आपसी भाईचारे के कारण ही लखनऊ में अमन-चैन रहा। एक बार नवाब आसफुद्दौला का पड़ाव अयोध्या में पड़ा। नवाब साहब को जब तोपों की सलामी दी जा रही थी तभी उनके कानों में घंटा-घड़ियाल की आवाजें पड़ी। नवाब ने हुक्म दिया कि उनका पड़ाव इस पवित्र नगरी से पांच मील दूर डाला जाए, ताकि हिंदुओं को पूजा-पाठ में कोई व्यवधान न पैदा हो। नवाब वाजिद अली शाह हर साल जोगिया मेला लगवाते थे। उन्होंने राधा-कन्हैया और इंदरसभा नाटक लिखे और स्वयं श्रीकृष्ण की भूमिका करते थे।

तबला, खयाल, ठुमरी, सितार की परवरिश लखनऊ में हुई। कथक ने यही जन्म लिया। आदाब लखनवियत का हिस्सा है। जरा नवाबों की सोच तो देखिए। हिंदू नमस्ते कहे, मुसलमान सलाम करे तो एकता के दर्शन कहां। नवाबों ने दोनों वर्गो के लिए आदाब दिया। नजरें और सर थोड़ा झुका हुआ। उंगलियां आगे की ओर झुकी हुईं और हाथ को नीचे से थोड़ा ऊपर ले जाकर धीरे से आदाब कहना। इस लखनवियत में अहंकार नहीं है, संपन्नता का गरूर नहीं है। इस तहजीब की सबसे बड़ी खासियत यही है कि जुबान और व्यवहार से किसी को कष्ट न पहुंचे। कोई बीमार है तो यह नहीं पूछा जायेगा कि सुना आप बीमार है। पूछने वाला यही कह कर बीमार का हाल जान लेगा कि सुना है हुजूर के दुश्मनों की तबीयत नासाज है। लखनवी जुबान उर्दू है। लेकिन बहुत रस में पकी हुई, शहद में डूबी हुई। मुगलिया सल्तनत की जुबान फारसी थी। लेकिन उर्दू दक्षिण में पैदा हुई, दिल्ली में जवान हुई, लखनऊ में दुल्हन बनी और शबाब पाया।

वक्त बदल गया है। दीवारों से लखौरी ईटें गायब हो रही है। इमारतों का आर्किटेक्चर बदल रहा है। लेकिन पुराने लखनऊ की गलियों में आज भी लखनवियत नजर आती है। काजमैन के पास किसी बात को लेकर दो गुटों में तनाव हो गया। पत्रकार पहुंचे तो उन्होंने जानकारी चाही। वहां खड़े एक युवक ने बड़े मीठे लहजे में बताया- जनाब उधर शिया हजरात रहते हैं, इधर अहले सुन्नत हजरात रहते हैं। पत्रकारों ने समझा कि कोई मुस्लिम युवक है, इसी से बात कर ली जाए। नाम पूछा तो पता चला कि वह हिंदू था। लखनऊ की नजाकत, नफासत और मीठी जबान धर्म के आधार पर नहीं बंटी। यह तो एक तहजीब है। लखनऊ की हवाओं में लखनवियत है। गालियों से लेकर मोहब्बत व छेड़खानी तक का अपना अंदाज है। इस तहजीब को जीवन में उतार चुके लोगों की लड़ाइयों का भी तर्जे बयां निराला है- ‘अब आप एक लफ्ज भी न बोलिएगा, बाखुदा आपकी शान में गुस्ताखी कर दूंगा।’ जवाब आएगा- ‘चलो मैं नहीं बोलता अब आप फरमाइए।’

दुनिया में लाजवाब है तू

अब जीवन तेज गति से चल रहा है। किसी के पास समय नहीं बचा। शब्दों में हाय-हलो हावी हो गया है। लेकिन लखनऊ के मामलों पर गहरी जानकारी रखने वाले जाफर अब्दुल्ला कहते हैं- लखनवी जुबान तो हवा का वो झोंका है जो जीवन में रंग भर देता है। दुनिया के किसी भी कोने में यदि आपको अपनी बेगम को ही आप कहने वाले कोई साहब मिल जाएं तो उनसे जरूर पूछिएगा, जनाब क्या आप लखनऊ के हैं? लखनऊ के ही प्रसिद्ध लेखक और इतिहासविद् योगेश प्रवीन की ये लाइनें लखनवियत को बताने के लिए काफी हैं-

ये सच है जिंदादिली की कोई किताब है तू।
अदब का हुस्नो-हुनर का हसीं शबाब है तू।
सरे चमन तेरा जलवा है वो गुलाब है तू।
लखनऊ आज भी दुनिया में लाजवाब है तू।

(http://navbharattimes.indiatimes.com/thoughts-platform/viewpoint/lucknow-and-its-culture/articleshow/21779349.cms)

********************************************

शुक्लजी, बहुत शुक्रिया इस लेख के लिए…अब आपने लखनवियत की बात की है तो कहीं बहुत पुराना पढ़ा एक शेर याद आया लखनऊ के शुक्रगुज़ार होने पर –

‘मुमकिन नहीं कि कर सकूं मैं शुक्रिया अदा
लेकिन शुक्रगुज़ार हमेशा रहूँगा मैं’

Lucknow

Written by RRGwrites

August 13, 2013 at 11:54 AM

10 Mean Things You Shouldn’t Say To Your Star Performers…

with 11 comments

Angry BossWell, you are the boss. And like to believe that you are a good one.  You lead a bunch of smart, hardworking and well-intentioned subordinates or, as I call, teammates.

These subordinates are real stars; they are result-oriented, ownership-driven and work with high passion & commitment. They have a reputation of delivering consistent results.

And then, there are those rare few occasions, when these smart, hardworking and well-intentioned teammates make mistakes; sometimes, really silly ones.

Well, since you are the boss, the said mistake of your teammate makes you suffer poor results, undue embarrassment and/or undesired pressure from seniors, you get to hear not-so-nice words from your own boss, and what not.

And with all the right and might of being the boss, you would like to reprimand the one who erred.

Oho! That could be really tricky.

Many of otherwise well-meaning, well-respected and admired managers make an uncalled for error on such occasions. They end up saying undermentioned ten sentences whilst engulfed in the fist of fury, or shall I say, in a weak moment of lapse of good judgement. These 10 sentences, once uttered, can be the real deal-breakers for the motivation of your star subordinates.

Let’s see what they are:

  1. “Well, you are really turning casual in your approach these days.”
  2. “You let me down, terribly. How could you?”
  3. “I should not have trusted you with this big responsibility.”
  4. “I trusted you, and you broke it.”
  5. “Henceforth, don’t even try this. Let ABC do it.”
  6. “Can’t you do just one simple thing right?”
  7. “I knew it. You are just not up to the mark.”
  8. “You failed all of us.”
  9. “It is because of your stupidity that the entire team suffered embarrassment.”
  10. “You will not be able to successfully complete this. Let me take it back from you.” 

Well, well, well… there you go. Above cut-&-dry sentiments, once verbalized whether using same words or similar, leave a casting negative impact on the recipient. Worst, it affects their personal sense of dignity and hurts their self-pride. Remember, the very fact that these are your star performers also makes them feel a higher sense of pride in themselves and their achievements as a professional. As a result, such criticism hits them even harder.

One such sentence, uttered in one such momentary lapse of good sense, ends up alienating your star teammate from you, most of the times. And that is where the entire disengagement at work begins.

Dangerous, isn’t it? Then think of it, do you too say similar things when your star performer goofs up?

I encourage you to share your experiences when you were the recipient of such a bashing. I am sure our experiences will help many managers reflect and become better leaders…

____________________________________

Image-credit: chrismower.com

%d bloggers like this: