RRGwrites

On life…and learning

हमारे विचार…

with 3 comments

आज मैं आपसे शहीद भगत सिंह का उनके अंतिम समय का एक कथन बाँटना चाहता हूँ; ना जाने क्यों आज मुझे यह बहुत याद आ रहा है –

“ऊषा काल के दीपक की लौ की भांति बुझा चाहता हूँ। इससे क्या हानि है जो ये मुट्ठी भर राख विनष्ट की जाती है। मेरे विचार विद्युत की भांति आलोकित होते रहेंगे…”

 

कितना गंभीर और निश्छल, परन्तु सत्य वचन है; और इतिहास इस बात का साक्षी है कि उनके विचार आज भी हमें आलोकित करते है…

आईये, आज सोचें कि क्या हमारे आचरण में, विचारों में इतना तेज है कि वो हमारे जाने के बाद भी याद किये जायेंगे और लोग उनका अनुसरण करेंगे?

Advertisements

Written by RRGwrites

April 5, 2013 at 6:21 PM

3 Responses

Subscribe to comments with RSS.

  1. sir,very true…

    Vishal Singh

    April 5, 2013 at 8:58 PM

  2. Sir..I don’t have words to comment on this, but I know a truth that people will follow you..even they have started.. you will see the no of people who’s life is changed coz of you, your thoughts gives energy to an individual to think on and act accordingly..

    Shashikant Singh

    April 8, 2013 at 2:42 PM


Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: